« »

प्रकृति का सार

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

क्या कहता धरती का प्यार
मन में धरो तुम धैर्य अपार
बिना थमे तुम चलते जाओ
बाधाओं से मत घबराओ
पर्वत बोले क्या,ताने सीना
हमेशा आत्मविश्वास से जीना
खुद को इतना महान बनाओ
गौरव का अम्बर छू जाओ
पानी की है इतनी सीख
सबसे सामान रख तू मीत
छोटे-बड़े का भेद न करना
ममता इतनी खुद में भरना
वायु बहती कहती जाये
खुशबु कण-कण में भर जाये
रखना खुद में इतना सुवास
रक्खें सब मदद की आस
अग्नि क्या कहती सुन जाओ
स्नेह से अपने सबको पिघलाओ
भले बुरे का समझो अंतर
जानो क्या जीवन का मंतर
सम्पूर्ण प्रकृति का ये सार
मानो तुम इनका आभार ||

Leave a Reply