« »

जो ढली शाम तो जुगनू सी चमकती यादें

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry
जो ढली शाम तो जुगनू सी चमकती यादें
मेरी तनहाई की ज़ेबाई लगीं हैं करने.   zebaayi-sajavat
एक एक चीज़ एकाएक  हुई है गोया   goya-bolne lagna
बात दी छेड़ रूखे यार की सारे घर ने.
 
बंद खिड़की के किसी छेद से छनती किरनें
सूने बिस्तर  को लगीं छेड़ के देने ताने.
अलगनी पर वो टँगी रंग भरी ओढ़नियाँ
होके बेचैन लगीं ढूढने उनके शाने   shaane-kandhe
 
सूने रस्ते पे लगे कान कि शायद आये
उन थके क़दमों की मद्धम सी शनासा आवाज़,    shanaasa-parichit
इस उदासी में   किसे ढूँढूँ कहाँ अब जाऊं,
हमनफस कोई नहीं है न कोई है हमराज़.   hamnafas-suhrid
 
जुस्तजू काश कि परवान मेरी चढ़ पाए
ख्वाब ही आयें दिले जार सुकूँ से भरने..

One Comment

  1. pratap says:

    सुन्दर !

Leave a Reply