« »

जशन की जान

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

दुनिया को बदलने का
दम भरता
हैरत की बात
खुद नहीं बदलता

बाहर है चमक – धमक
अंधर से खोखला
बेमतलब का शोरो – गुल
मनुष्य हुआ बाँवला

अपने भी हैं पराये भी
भरे जहाँ में तन्हा
हर जशन की जान है
अपनी जान तन्हा

इधर – उधर की
बात करता
जिंदगी क्या
समझ नहीं सकता

जीने का मकसद
दूसरों को समझाता
काश ! जिंदगी की हकीकत
स्वयं समझ पाता

9 Comments

  1. Vishvnand says:

    रचना अति सुन्दर अर्थपूर्ण और मनभावन
    Hearty commends

    पढ़कर लगा जैसे इंसान खुद है
    आज के हमारे राजनीतिक नेताओं का वर्णन
    फर्क सिर्फ इतना नेता जानें रिश्वत ले
    देशवासिओं का हक बुरी हिकमतों से छीनना ….

    • kusumgokarn says:

      @Vishvnand,
      Subhashji,
      Very thought provoking poem.
      One always tries to correct others but hardly one’s own self.
      Kusum

    • s c kakar says:

      @Vishvnand,
      Dear Vishvnandji
      many thanks for ur kind comments.ur commitment to this web site is phenomenal.may we continue to enjoy ur patronage.your words of appreciation are a constant source of encouragement.

      • Vishvnand says:

        @s c kakar
        Thanks so very much for your comment to my comment & its contents.
        I am feeling grateful to your acknowledgment of my humble effort at site. This activity/effort has now metamorphosed for me as an important part of my passion for poetry giving me fulfillment of a high order and gets heightened when some senior members of esteem like you acknowledge it in the manner you have been kind enough to do.
        I am so thankful.

  2. parminder says:

    स्वयं के अन्दर झांकना सबसे ज़रूरी है| और ज़िंदगी की हकीकत क्या आज तक कोई भी जान पाया है? गंभीर प्रश्न हैं जो आपकी कविता ने डाले हैं! अति सुन्दर!

  3. santosh bhauwala says:

    यथार्थ परक और सामयिक रचना हेतु बधाई !!अति उत्तम

Leave a Reply