« »

होली के रंग

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

इन्द्रधनुषी रंगों भरी पिचकारी

                              लगे सभी को मनोहारी

होली  की स्वादिष्ट गुझिया

                        लुभाय रही जिया
आप सभी की कविता की बौछार
                             बहा गई रंगों की धार
सप्त रंगों की  उड़ाय  गई
                             गुलाल और अबीर
प्रीत के दिन आये याद फिर से आज
                     मुदित मन नाच रहा आज 
होली पर हुलसाय रहा हिया
                     देखो कैसा मचल रहा जिया 
होली में समस्त  इर्ष्या द्वेष विकार 
                            दिए अग्नि में झोंक
भली लगे राधा माधव की प्रीती
                            प्यार की नोक झोंक 
व्रज में मची जो महारास
                           बनी होली की रीत
रंगों से थाल सजाएँ मिल कर
                         होली का धमाल मचा रहे मीत
 
इन्द्रधनुषी रंगों से सजे होली p4poetry परिवार की
झांझ मंजीरे की गूंज पर सर्वत्र बहे लहर प्यार की                              
कविता की सरिता उमड़े , नित हमारे आँगन में
गुलाल और अबीर से हो सराबोर,शुभेक्षा यही दिल की

आप सभी को मेरी ओर से होली की अनेको शुभकामनाएं!!!!!!

संतोष भाऊवाला

6 Comments

  1. rajendra sharma'vivek' says:

    Rango ki pichkaari kavitaa lagi hai pyaari

  2. Vishvnand says:

    बहुत खूब
    हार्दिक बधाई बहुत प्यारी होली के रंगों भरी आपकी है ये रचना
    और p4poetry पर सदा छाई रहे यही उत्साही उत्सव की भावना
    यही आपके साथ हमसब की भी है हार्दिक शुभकामना

    • santosh bhauwala says:

      आदरणीय विश्वनाथ जी ,आप सभी का आशीर्वाद यूं ही मिलता रहे आभार !!!

  3. siddhanathsingh says:

    manohaari

    • santosh bhauwala says:

      आदरणीय सिद्धनाथ जी,बहुत बहुत आभार !!!

Leave a Reply