« »

बेटियाँ

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

मेरी सभी रचनाओं का आनंद उठाने के लिए मेरे ब्लॉग का अनुसरण करें – http://kavisushiljoshi.blogspot.com/

3 Comments

  1. Vishvnand says:

    सुन्दर कविता और निवेदन
    भ्रण ह्त्या के दुष्टों को तो फांसी देना ही है उत्तम
    जब तक ऐसा नहीं है करते ना सुधरेंगे ऐसे ये जन
    गरीबी गर इसका कारण है तो लूटो तुम धनवानों का धन
    पर कायरता से भ्रण ह्त्या पाप बड़ा है समझालो मन

  2. बेटियों कई बारे मे आपकी रचना सुन्दर है ,बेटियों कई लालन पालन मे माँ बाप और परिवार को जिन कठिनायों का सामना करना पड़ता वे हम सव जानते है

Leave a Reply