« »

जन्मास्टमी

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

लल्ला कृष्ण बल कान्हा
तेरी नटखट यादों का
उत्सव मनाया जाता है
श्री कृष्ण का जन्म दिवस
जन्मास्टमी कहलाता है
मन में प्रेम का फूल खिले
कृष्ण सा साथी मिले
होती तमन्ना हर गोपी की
उत्सव का ये प्रथा चला
लल्ला कृष्ण बल कान्हा
द्वापर युग में आये यहाँ
प्रेम की बंशी बजाई
बैर वैमनष्य मिटाई
शशिकांत निशांत शर्मा ‘साहिल’

Shashikant Nishant Sharma

Leave a Reply