« »

तिरंगा – भाग 2

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

कृपया पढ़ने के लिए चित्र पर क्लिक करें।

मेरी सभी रचनाओं का आनंद उठाने के लिए मेरे ब्लॉग का अनुसरण करें – http://kavisushiljoshi.blogspot.com/

8 Comments

  1. arvind kharbanda says:

    nice

  2. rajendra sharma "vivek" says:

    Tirangaa is raashtr kaa gahnaa hai
    susheel ji tirange par achcha muktak
    tiranga me lipati asmitaa
    tirange kaa aanchal bhaarat ma ne pahanaa hai
    tirange se ek rahe jan jan
    tirange ki chaayaa me ham sabko rachanaa

  3. Vishvnand says:

    सुन्दर और प्यारी पंक्तिया…
    गांधीजी और देशवासिओं के आँखों में तिरंगा लहराता हुआ इक आदर्श है
    आजकल के गांधी और कांग्रेस की हांथों में अपना तिरंगा बहुत बड़ा फर्क है

  4. parminder says:

    आमीन!

Leave a Reply