« »

भले कोई उमर हो

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

कृपया पढ़ने के लिए चित्र पर क्लिक करें।

मेरी सभी रचनाओं का आनंद उठाने के लिए मेरे ब्लॉग का अनुसरण करें – http://kavisushiljoshi.blogspot.com/

2 Comments

  1. Sham Sunder Kumar says:

    अभी भी सच में, उनका मुस्कुराना याद है हमको,
    जहाँ छुप छुप के मिलते थे, ठिकाना याद है हमको,
    जीवन के वक्त-ऐ-दरिया में, सच में, एक एक करके,
    यादों को सलीके से, बहाना, याद है हमको,
    तुमने बात छेड़ी है, तो हम भी क्यों रहें पीछे,
    मोहब्बत तो मोहब्बत है, निभाना याद है हमको.

    kumarshamsunder@gmail.com

  2. Sushil Joshi says:

    बहुत खूब शाम सुंदर जी…… धन्यवाद आपका…

Leave a Reply