« »

“धरा”

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

                                 “धरा” 

                               ******
          हे वसुधा, हे वसुंधरा, तू धरती, तू ही धरणी,
          अटल है तेरा नियम कि जैसी करणी वैसी भरणी l 
          तू ही प्रकृति की सबसे प्यारी सुता है एकाकी,
          सहयोगी हैं ये तेरे सब सूर्यवंशी गृह बाकी l    
          जलथलनदपर्वत संगसंग खेतों की शोभा सदाबहार,
          है कितना अनमोल ये तेरा इंद्रधनुष का स्वर्णिम हार !
          हिमगिरि अरु जलनिधि से रक्षित तेरा देह सुखद है सदा,
          आंधी-तूफानों से चाहे तू चोटिल होती है यदा-कदा l 
          नवग्रहों में बस तू ही पालक-पोषक निपट है एकाकी,
          सहयोगी सब हैं तेरे ये अन्य अष्टग्रह बाकी l 
          सारे ही देवगण-ऋषिगण, मंदिर, मस्जिद गुरुद्वारे,
          भक्तों के, श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खुले-सजे सारे !
          उपयोगी, अनमोल रत्न-आभूषण हैं तेरी झोली में,
         स्वर्ण, रजत, हीरे-मोती, माणिक्य कहाते बोली में l                                                        
         तू ही तो जनगण अरु सुरगण की पूज्य धरा एकाकी,                                                      
         न ही किसी की मामी-चाची तू न ही किसी कि  काकी !                                                    
         हे वसुधा, हे वसुंधरा, तू प्रकृति की लल्ल लाडली पुतरी,                                                    
        गंगायमुनासरस्वती सी नदियां तेरे यहाँ ही उतरीं l                                                            
        यत्रतत्र ये नदियां बहती हैं कर देती हैं हरियाली,                                                              
        उद्यानों-खेतों से तब चहुंओर हैं होती खुशहाली L                                                            
        खाद्य-अनाज के संगसंग तब हम पाते हैं फलफूल,
       मानव, पशु-पक्षी आदि तभी रहपाते प्रकृति के अनुकूल ! 
                      ********************* 
     
          रचनाकार:
          अश्विनी कुमार गोस्वामी/११-२-२०१४,
          ए-७६, विजयनगर, करतारपुरा,
          जयपुर l 

Leave a Reply