« »

“भारत”

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

                                           “भारत”

                                        **********
  
                               मैं जिस  धरती पर खड़ा हूँ 
                               उसको कहते भारत देश। 
                               राम भूमि है, कृष्ण-भूमि है,
                               उत्तर में हिमगिरि छाया, 
                               पूरब-पश्चिम दक्षिण में                           
                               जलनिधि सतत है लहराया ।१l .   
                               पूर्ण धरा पर अतिमनभावन 
                               हिम-जल है सदा अतिपावन,
                               ये स्वर्गसा क्षेत्र विशेष लुभावन ।२।  
                               साधु-संत सब यहीं विराजत,
                               ऋषि-मुनियों का डंका बाजत,
                               देववृन्द सब यहीं है राजत२ 
                               बुत-मस्जिद, गुरुद्वार, गिरजाघर
                               सर्वाधिक हैं इसी भूमि पर ।३l 
                               संविधान सर्वमान्य यहाँ का,
                               न्यायालय स्वतंत्र पृथक से,
                               धन्य  हमारा देश व भेष,
                               अन्य देशों को लगती ठेस . 
                               अतः सदा इस देश की सोचो,
                               उन्नत होकर ऊंचे पहुँचो ।४। 
                                         ***********

One Comment

  1. Vishvnand says:

    Raajneeti kaa yahaan par patan
    Secular dankaa kare vibhaajan ….!

    Hearty commends for the posting ….!

Leave a Reply