« »

दरअसल मैं कईयों की अमानती हूँ ||

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

आज नहीं तो कल रुबरू होगा इन तस्वीरों का सच,

तुने ही बदले है इनके रुख, मैं जानती हूँ ||

 

कौन कहता है की तू पाक निकल जाएगा ,बेशक चालाक बड़ा है,

अभी जिन्दा हूँ कुछ सांसो में,मेरे कातिल मैं तो तुझे पहचानती हूँ ||

 

खुश ना हो मेरे थमने से, वो तो जरा सुस्ता रही हूँ,

जरा बटोर लू कुछ ताकत, अभी वक्त है बुरा मैं मानती हूँ ||

 

मुझे बेखौफ देख ना समझना की मेरा कोई खुदा नहीं,

दरअसल मैं कईयों की अमानती हूँ ||

Leave a Reply