« »

धड़कने चलती है मेरी , साँसों से तेरी सनम

1 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry
छुप गया है बादलो मे , शम्स यू ही कही
नजर चुराए बैठा है , चाँद जैसे है ही नही
सोचता हू मै कही तुम , कुछ घबराए रहते हो
अपनी नजरो की चमक से ,फलक सजाए रह्ते हो
                        
                                 ***
होश तो है ही नही , अब हर कोई बेहोश है
दिल मे मेरे भी , तुम्हे पाने का एक जोश है
मेरी याद दिल मे कही , तुम बसाए रह्ते हो
मुझमे समाए मै को तुम , ख़ुद मे समाए रह्ते हो
                         
                                 ***
धड़कने चलती है मेरी , साँसों से तेरी सनम
देख मेरा हाल , कर तू , मुझपर , थोड़ा रहम
लग रहा मुझको यही तुम , कुछ छुपाए रह्ते हो
अपनी साँसों से फिज़ा को , तुम महकाए रह्ते हो     
 
                                 ***

6 Comments

  1. Vishvnand says:

    रचना सुन्दर शेरों से सज्ज है,
    बहुत भायी
    बधाई

  2. dr.paliwal says:

    Vijayaji Har Sher Umda Hai…
    Rachna Badi achchhi hai….
    Bada Maja Aaya Padhkar……

  3. sushil sarna says:

    good-one poetry

Leave a Reply