« »

मेरे दिल पे जो गुजरती ….! (गीत)

2 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Podcast

यह इक गीत जिस भाव से और जिस तर्ज़ में रचा गया, उसी में गाकर इसके पॉडकास्ट के साथ प्रस्तुत है…

 

मेरे दिल पे जो गुजरती ….! (गीत)

मेरे दिल पे जो गुजरती, मैं  छुपाता  रहता  हूँ,
और हर मुश्किल में यारों, मैं गाता रहता हूँ….!.

मत जाओ मेरी सूरत पे ए मेरे यारों,
मैं हरदम यूँही हंसता, पर अन्दर धोखा हूँ,
मेरे दिल पे जो गुजरती, मैं  छुपाता  रहता हूँ….!.

जिनसे की मैंने दोस्ती, उनने की दुश्मनी,
में पहले यारों क्या था, अब कहीं का नहीं,
पूछो मत मेरी जिन्दगी मैं कैसे जीता हूँ,
मेरे दिल पे जो गुजरती, मैं  छुपाता  रहता हूँ ….!

जिनको चाहा था दिल से, वो बेवफा निकले,
मेरी बाँहों का हार है अब गैरों के गले,
गैरों में अपनी जिन्दगी संवारा करता हूँ,
मेरे दिल पे जो गुजरती, मैं  छुपाता  रहता हूँ ….!

कैसे दिन जिन्दगी के, ऐसे ही गुजर गए,
सपने जो मेरे अपने, सपने ही रह गए,
प्यासे दिल की तनहाई के अब गीत गाता हूँ,
मेरे दिल पे जो गुजरती, मैं  छुपाता  रहता हूँ ….!

मत जाओ मेरी सूरत पे ए मेरे यारों,
मैं हरदम यूँही हंसता, पर अन्दर धोखा हूँ,
मेरे दिल पे जो गुजरती, मैं  छुपाता  रहता  हूँ,
और हर मुश्किल में यारों, मैं गाता रहता हूँ ….!

” विश्व नन्द ”

12 Comments

  1. kanchana says:

    The upper sthayi (notes) convey the strength and determination….good one!!

  2. U.M.Sahai says:

    एक अच्छी कविता, विश्व जी
    सबसे यही कहा था बड़े बावफ़ा हैं वो
    अब बेवफ़ा कहूँ तो है अपनी हसीं की बात

    • Vishvnand says:

      @U.M.Sahai
      कमेन्ट के लिए बहुत शुक्रिया और खूबसूरत शेर के लिए भी

  3. क्या सादगी है गीत में. बहुत खूब विश्व जी. दुल्हन वही जो पिया मन भाए, और गीत वही जो जुबा पे चढ़ जाये. बहुत सुंदर गीत के लिए बधाई.

    • Vishvnand says:

      @vikas yashkirti
      बहुत शुक्रिया. आपका कमेन्ट पढ़ दिल में खुशी गुजर रही है.

  4. Preeti Datar says:

    a true mark of strength 🙂

  5. pramod kedia says:

    “जिनको चाहा था दिल से, वो बेवफा निकले,
    मेरी बाँहों का हार है अब गैरों के गले,
    गैरों में अपनी जिन्दगी संवारा करता हूँ,
    मेरे दिल पे जो गुजरती, मैं छुपाता रहता हूँ”
    मेरे दिल पे जो है गुजरी, मैं बताना चाहता हूँ. बहुत खूब विश्वनन्द जी. आपकी रचना को आपकी धुन और आवाज़ का साथ मिला तो आनंद आ गया. आगे भी पौड्कास्ट के साथ गीत पोस्ट कीजियेगा, यही निवेदन है.

    • Vishvnand says:

      @pramod kedia
      आपकी इस मनभावन प्रतिक्रया के लिए आभारी हूँ. आपको हार्दिक धन्यवाद. और हाँ, मेरी कोशिश तो यही रहेगी की हर गीत उसके podcast सहित पोस्ट करूँ और इस तरह रचना की खुशी आप सब से share करूं ….

  6. vmjain says:

    नि-संदेह एक अच्छा गीत, एक अच्छी कविता के साथ. बधाई.

    • Vishvnand says:

      @vmjain
      आपके प्रशंसायुक्त प्रतिक्रया के लिए सह्रदय आभार

Leave a Reply