« »

ये बात ….!

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Uncategorized

ये  बात   ….!

वो  थका  हुआ   सा  शाम  को  ऑफिस  से  घर  आया
पत्नी  को  काम  मे  व्यस्त  पाया
प्यार  से  बेचारा  पूछ  बैठा
वो :  कुछ  बात  ही  नहीं  कर  रहे,  क्या  बात  है …?
ये :  कुछ  बात  ही  नहीं  तो  क्या  बात  करूं  ?
वो :  ऐसे  कैसे ?, कुछ  बात  तो  जरूर  होगी ?
ये:   कैसी  बात  करते  हो ?  मैं  फिजूल  की  बातें  नहीं  करती,
ना  ही  झूट  की. वो  आपको  ही  आता  है.
वो :  चलो  ठीक  है,  कोई  बात  नहीं.

उनके प्रेमविवाह की २५ वीं सालगिरह पास आ गयी थी ….
क्या इसी बात के कारण ऐसी बात हो रही थी…?

हाँ,  शायद यही बात थी….!

—- xxx —-

4 Comments

  1. vpshukla says:

    pyar ko umra se mat bandhiye Vishv ji.pyar me umra kanha dhalati hai,

    • Vishvnand says:

      @vpshukla
      कमेन्ट के लिए हार्दिक शुक्रिया.
      यहाँ मुझे ज्यादा बातों की बात दिखानी थी प्यार की कम. वैसे आपकी बात सही है. बढ़ती उमर में सच्चा प्यार mature होकर ज्यादा खूबसूरत हो जाता है जो बातों में नही बताया जा सकता. 🙂

      यहाँ पत्नी नाराज है कि इतनी बड़ी बात (उनकी शादी की silver Jubilee) पास है और उसे celebrate करने की पति कोई बात ही नहीं कर रहा.

  2. U.M.Sahai says:

    शादी के २५ साल बाद पति-पत्नी के बीच वार्तालाप का बहुत सही चित्रण किया है, विश्व जी, बधाई. कहते भी हैं कि
    One fight a day
    keeps the Divorce away

    • Vishvnand says:

      @U.M.Sahai
      And more than two is
      for Divorce a sure way…
      This one in the write
      is going on because their 25th Wedding Anniversary
      is fast approaching day by day
      And to remind the Husband
      She is talking in this way…. 🙂
      Thank you very much for your comments and its contents which tickled me to clarify this way

Leave a Reply