« »

“मन में है विश्वाश तो होंगे कामयाब”

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

जिन्दगी एक अजीब अनजाना फ़साना है,
जिसे दुनिया के हर इंसान ने माना है,
इसके हर पन्ने का फलसफा इक राज है,
कभी सुरीला और कभी खौफनाक इसका साज है,
हर लम्हे के आने की आहट से सहमा ये दिल है,
क्या होगा अगले पल ये बता पाना मुश्किल है,
बहती है हवाएं कभी ख़ुशी, कभी गम लिए,
फिर रहा हर इंसान इस जहाँ में आँखें नाम लिए,
पर जीने के लिए तो राहें निकल ही आती हैं,
और ये ही राहें हमें मंजिल तक पहुंचाती हैं,
बस करना होगा यकीं सिर्फ अपनी तकदीर पर,
चलना होगा भरोसे से हर कर्म की लकीर पर,
फिर देखना कैसे कामयाबी हम पाते हैं,
“मन में है विश्वाश तो होंगे कामयाब”
ये सन्देश जन-जन तक पहुंचाते हैं.

5 Comments

  1. kalawati says:

    sabko namaskar,
    aaj bahut din baad aap sabke saath bahut achcha lag raha hai,
    itne din baad fir ek choti si koshish hai , aasha hai pasand aayegi.

  2. Vishvnand says:

    प्यारी सी सुन्दर मनभावन अर्थपूर्ण ये कामयाब कविता है,
    मन को कामयाब विचारों की और ले जाती हुई ये रचना है
    आप का नववर्ष पर p4poetry पर नव आगमन हमारे बहुत खुशी की बात है,
    और इस रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई है …

  3. vpshukla says:

    bahut sundar,bhavpurna kavita,

Leave a Reply