« »

Kagaz

3 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

kisi shishu ke mann sa kora kagaz kisi apsara ke tan sa gora kagaz

kabhi dil ka andhera kona kagaz kabhi bachpan ka khilona kagaz

kabhi farmaish pahali kabhi akhiri armaan kagaz

kabhi gujarish kabhie ahsan kagaz

kabhi aarzoo kabhi farman kaagaz

kisi ka dost to kisi ka bhagwaan

kagaz kabhi Geeta kabhi Bible kabhi Quran kagaz

10 Comments

  1. Dr. jawala Prasad says:

    ‘कागज़’ का बहुत सुंदर प्रयोग ……..
    माफ़ी चाहता हूँ देवनागरी में बदल रहा हूँ

    “किसी शिशु के मनं सा कोरा कागज़ किसी अप्सरा के तन सा गोरा कागज़
    कभी दिल का अँधेरा कोना कागज़ कभी बचपन का खिलौना कागज़
    कभी फरमाइश पहली कभी आखिरी अरमान कागज़
    कभी गुजारिश कभी अहसान कागज़
    कभी आरज़ू कभी फरमान कागज़
    किसी का दोस्त तो किसी का भगवान् कागज़
    कभी गीता कभी बाईबल कभी कुरान कागज़”

  2. Hitesh says:

    this is just awesome
    what a brilliant debut!

  3. dr.paliwal says:

    Sundar rachna hai….
    Wel Come to p4poetry…..

  4. Vishvnand says:

    Beautiful oven fresh poetry
    क्या बात है, कागज़ पर बहुत सुन्दर अलग सी कल्पना और उसका उतना ही सुन्दर कविता में रूपांतर,
    इस सुन्दर रचना के लिए हार्दिक बधाई और p4poetry पर आपका हार्दिक स्वागत भी.
    Dr. jawala Prasad का इस कविता को देवनागरी में Transliterate करने का प्रयास बहुत सराहनीय है जिससे हम यह कविता ठीक से पढ़ /समझ सके.
    आगे आप भी हिंदी कवितायें देवनागरी लिपि में पोस्ट करेंगे ऐसी आशा है ..

  5. vinay says:

    @dr.paliwal, kisi ne itne khubsurat shabdon se meri kavita ki sarhana pahli baar ki hai utsah badhane ke liye dhanyawaad

  6. Aazaan says:

    beautiful poem…. just loved it..
    kisi ke dil ka raaz hai kagaz,
    kisi ke shabdo ka aagaaz ye kagaz…

  7. JUST AWESOMEEEEEEEEEEEEEEEEEEEEEEEEE

  8. IAM FROM MSVV AND I LOVED IT
    REALLY GOOD \

Leave a Reply