« »

त्रिवेणी-5!

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

1. उसकी देह रूपी ईमारत
एक झटके में ही ढह गई!

यादों के कंकर अब भी मेरे पाँव में देर तक चुभते है!

2. मन करता है
आज छुप जाऊ उस अँधेरी कोठारी में

जहाँ पर मन को झिंझोर कर वापिस लाना आसन होता है!

3. नदिया सूख गयी
नहरे उजड़ गयी!

हाँ, मैंने भी अब बाँध बनाना सीख लिया है!

10 Comments

  1. Mukesh says:

    bahut hu sundar aur gehri baat kahi hai aapne!

  2. Vishvnand says:

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति
    हार्दिक बधाई

  3. sushil sarna says:

    beautifully expressed the feelings -badhaee

  4. pallawi verma says:

    very nice!!

  5. prachi sandeep singla says:

    itz superb rachna,,u knw i eagerly wait 4 ur trivenis now on d site,,keep sharing 🙂

  6. Raj says:

    Great lines.

Leave a Reply