« »

*****वनलता तुम ऐसा नृत्य करना

1 vote, average: 1.00 out of 51 vote, average: 1.00 out of 51 vote, average: 1.00 out of 51 vote, average: 1.00 out of 51 vote, average: 1.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

बादल तुम प्यारकी बारिश बरसाना,
मेरे दिलभर आनें वाले हैं,

 

पवन तुम प्यारभरी हवा को चलाना,
मेरे दिलभर आनें वाले हैं,

 

गुलाब तुम रंगे बहार आज खिलना,
मेरे दिलभर आनें वाले हैं,

 

लचकती डालियाँ तुम फूल बरसाना,

मेरे दिलभर आनें वाले हैं,

  

 

मयूर तुम प्यार के राग मै गाना,
मेरे दिलभर आनें वाले हैं,

 

वनलता तुम ऐसा नृत्य करना,
मेरी महबूब को लगे की यहाँ इन्द्र की सभा हैं …….

“किशन”

4 Comments

  1. prachi sandeep singla says:

    not properly rhymed

  2. Harish Chandra Lohumi says:

    मयूर नाचने के बजाय गायेगा तो
    दिल भर आयेगा पर दिलबर नही आयेगा किशन जी।
    ————————– जय श्री krishnaa…..

Leave a Reply