« »

जुड़ाव

2 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry
क्या कमाल बात है,
उन गलियों से भी मुझे बेहिसाब  जुड़ाव महसूस होता है,
 
गुजारा  है जिनमे बचपन अपना 
मेरे महबूब ने
या
गुजरा  करते थे जिनसे  जनाब
कभी  बस यूँ ही….!!!
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

4 Comments

  1. Harish Chandra Lohumi says:

    गज़ब का वैचारिक चित्रण प्राची जी !
    बधाई !!!!

  2. medhini says:

    Nice,Prachi.

Leave a Reply