« »

*****धड़कन मैं बसकर खुलके हवा दे दो

1 vote, average: 2.00 out of 51 vote, average: 2.00 out of 51 vote, average: 2.00 out of 51 vote, average: 2.00 out of 51 vote, average: 2.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

सुरमई आँखों से  काजल  चुराने  को  मन  करता  है पर  डर  है  आप का  

दिल  ना  दो  तो  कुछ  बात  नही थोडा  प्यार  देदो  ये  आशिक  है  आप का  

 

धड़कन  मैं  बसकर  खुलके  हवा  दे दो  मोसम  भी  दीवाना   हैं आप का  

आप  दिल से आ जाओ मेरी  जिंदगी  मैं आसमान पे  लिख  दू नाम आप  का 

 

मुहब्बत  को  प्यार  मत  कहो  वैसे  भी  जमाना  दुश्मन  हैं  प्यार  का

तुम  ना  सही  तुम्हारी  तनहाई  सही  दिल  मैं  उतर कर  देखो  नशा  प्यार  का

 

“k4 किशन”

4 Comments

  1. Harish Chandra Lohumi says:

    sundar Kishan bhai !!!

  2. cs_aithani says:

    कुछ नया भी लिखिये इश्क-मोहब्बत से हटकर ।

  3. Kishan says:

    thnks sir idea dene ke liye ..jai shree krishna

Leave a Reply