« »

******वो ही हमारे अँधेरे रास्तो का सितारा हैं

1 vote, average: 2.00 out of 51 vote, average: 2.00 out of 51 vote, average: 2.00 out of 51 vote, average: 2.00 out of 51 vote, average: 2.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

 

कोई हमसे दूर होता हैं  तो  याद  आता हैं  

कोई  हमारे पास रहेकर भी याद  आता  हैं

 

हम  तो  उन से  ना दूर  हैं  ना  पास  हैं  

वो  गुजरा वकत गुजरी बातें  याद  आती  हैं 

 

कभी दिल मैं  मोहब्बत की  सौगात लाती हैं

शाम की महेफिल उनके बीना रास ना आती हैं  

 

दिल के तूफ़ान मचलकर मजबूर कर जाते हैं

हम रातो  की चाँदनी मैं तारे गिनते हैं  

 

चाँद मैं  उसका  चहेरा  देखकर मुस्कुराते हैं   

कब रैन प्यासी  बीत जाती हैं पता न चलता हैं  

 

 

दिल का ख़ुदा समजकर उन्हें  याद  करते हैं   

वो ही हमारे अँधेरे रास्तो  का  सितारा  हैं  

 

दिल को आज तुम्हारी कमी नज़र आती हैं

हम तो आँखे बिसाये बस तुम्हारा इंतज़ार करते हैं

 

“किशन” 

2 Comments

  1. Harish Chandra Lohumi says:

    किशन भाई, आप लिखने का शौक रखते हैं यह तो बहुत ही अच्छी बात है। आप लम्बी पंक्तियॉ लिखने के बजाय छोटी-छोटी पंक्तियॉ लिखकर प्रयास कीजिये । और रचना को कई बार पढ़ कर और सुधार कर प्रकाशित करें । हम सभी लोग चाहते हैं और कामना करते हैं कि आपकी रचनायें अपने शुद्ध रूप में प्रकाशित हो प्रशंसा प्राप्त करें ।
    जैसे-

    कोई हमसे बहुत दूर है,
    फ़िर भी रहता पास,
    याद हमें वो करे ना करे,
    हमको आता याद ।

  2. Kishan says:

    thnks sir ab agli baar achhe se hi uplod karunga ..aur itni achhi aur nek salah dene ke liye thnks jai shree krishna

Leave a Reply