« »

मेरे जख़्मो से मोहब्बत है मुझको !(Ghazal with audio link)

4 votes, average: 3.75 out of 54 votes, average: 3.75 out of 54 votes, average: 3.75 out of 54 votes, average: 3.75 out of 54 votes, average: 3.75 out of 5
Loading...
Crowned Poem, Hindi Poetry, Podcast

mere jakhmo se(click here for audio)

मेरे जख़्मो से मोहब्बत है मुझको ,

इन्ही पे तो मेरी  कहानी लिखी है ,

बेबस भटकता बचपन लिखा है ,

बेदर्द तड़पति जवानी लिखी है !

मेरे जख़्मो से मोहब्बत है मुझको ,

इन्ही पे तो मेरी  कहानी लिखी है

हर जख्म की एक अलग दस्ता है ,

हर जख्म की एक अलग है कहानी  ,

किसी पे अपनो की बेवफ़ाई लिखी है ,

किसी पे उम्र भर की बदनामी लिखी है !

मेरे जख़्मो से मोहब्बत है मुझको ,

इन्ही पे तो मेरी  कहानी लिखी है

कोई दोस्तो की बदसलूखी बया कर रहा है ,

कोई सनम की खामोशी बया कर रहा है ,

किसी पे टूटे दिल की निशानी लिखी है ,

किसी पे मेरे जहन की परेशानी लिखी है !

मेरे जख़्मो से मोहब्बत है मुझको ,

इन्ही पे तो मेरी  कहानी लिखी है

ये जख्म तो अब मेरे हमसफर है ,

ना छेड़ो इन्हे ये  मेरे रह्ग़ुजर  है ,

ये बड़ी शिद्दत से साथ निभा रहे है ,

इन्ही पे अब मेरे जिंदगानी लिखी है !

मेरे जख़्मो से मोहब्बत है मुझको ,

इन्ही पे तो मेरी  कहानी लिखी है

डॉक्टर राजीव श्रीवास्तवा

7 Comments

  1. Vishvnand says:

    सुन्दर गीत और audio में सुन्दर प्रस्तुति
    दोनों बहुत मन भाये.

    (हाँ , लय के अंदाज़ से गीत को ज़रा कुछ सुधारने की जरूरत लग रही है) ..

  2. anju singh says:

    bahut badiya sir…

  3. sushil sarna says:

    Really a nice one poem-liked it.

  4. neeraj guru says:

    ग़ज़ल की तरह ग़ज़ल तो नहीं है पर इस पूरी कहानी में एक रवानी है,जो प्रशंसनीय है.

  5. Harish Chandra Lohumi says:

    दिलकश अंदाज़..दिलकश आवाज़ ..बधाई !

Leave a Reply