« »

सूरज और हवा

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

सूरज की उत्साह हीनता से

ठंडा होता गया सब कुछ

ठिठुरता सा ,जमता सा और निष्प्राण सा

परन्तु सहचरी वायु का संचरण

बनाएगा इसे शनै: २ प्राणवान

इसी से होता जायेगा यह

धीरे २ प्रखर और तेजवान

आज का मद्धिम सूर्य

12 Comments

  1. sushil sarna says:

    beautiful poem with deep sence of MOUSAM-badhaaee Dr.Saahib

    • dr.ved vyathit says:

      @sushil sarna, भाई आप का स्नेह सदा मेरे साथ रहता है सदा आप मेरा उत्साह वर्धन करते हैं
      हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ

  2. Vishvnand says:

    वाह…
    मनोहर अभिव्यक्ति ..

    • dr.ved vyathit says:

      @Vishvnand, आशीर्वाद बना रहे मेरे लिए बड़ी सुखद अनुभूति है धन्यवाद से खिन छोटी न पद जाये

  3. anju singh says:

    namaskar sir ,
    bahut gahrai hai in panktiyon mai.
    or apna kimti time meri kavita padne ke liye kharch kiya uske liye bahut bahut dhanywad …..

    • dr.ved vyathit says:

      @anju singh, जो भी मेरे से सम्भव है यदि मैं किसी के कम आ सकूं तो मुझे प्रसन्नता होती है मेरे समय पर मित्रों का भी पूर्ण अधिकार है जो भी मुझे मित्रों की उन्नति के लए उचित लगता है उसे जरूर कह देता हूँ परन्तु इस से मन भेद नही होना चाहिए मत भेद तो रह सकते हैं पर मन भेद अनुचित लगता है
      निरंतर सम्वाद बना रहे यही सब कुछ है हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ

  4. pallawi says:

    सूरज और हवा के रिश्ते को बोहुत सुन्दरता से निभाया है आपने
    बोहुत बोहुत बधाई हो सर!!

    • dr.ved vyathit says:

      @pallawi, पल्लवी यही पूर्णता है इस को ही नियमत:स्वीकार जाना ही संयोग की सिद्धता है एकाकी पं अपूर्णता का द्योतक है
      बहुत २ आभार

  5. P4PoetryP4Praveen says:

    Bahut khoob…सूरज और हवा…ki baat-cheet…

    Arthpoorn rachna ke liye badhaai… 🙂

    • dr.ved vyathit says:

      @P4PoetryP4Praveen, आप की यह सहृदयता है पूर्णता इसी सहचरी में है
      हार्दिक आभार स्वीकार करें

  6. siddha Nath Singh says:

    सूरज है निस्तेज अगर तो हवा हिलाती हाड़.
    मौन मिला है सिंह अगर तो लोमड रहे दहाड़.

Leave a Reply