« »

थक गया हूँ अब तो सोने दो मुझे

4 votes, average: 3.25 out of 54 votes, average: 3.25 out of 54 votes, average: 3.25 out of 54 votes, average: 3.25 out of 54 votes, average: 3.25 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

==========================

थक गया हूँ अब तो सोने दो मुझे
दिन भर देखे ख्वाब संजोने दो मुझे

सूख कर पत्थर हुए उन आँसुयों से
एक सीप सी माला पिरोने दो मुझे

तप गयी रूह मेरी इन चाँद तारों से
आंसुओं की झील में डुबोने दो मुझे

ख्वाबों को बेचकर इस दुनियांदारी में
पाया है जो कुछ भी खोने दो मुझे

-अभिषेक

==========================

8 Comments

  1. Raj says:

    बहुत सुन्दर प्रयास, अभिषेक. Keep sharing.

  2. rajivsrivastava says:

    kya baat hai–bade dino baad aye ise pyari rachna ke sand–badahai

  3. Vishvnand says:

    मनभावन सी
    सुन्दर आदाज़ की अनुभूति
    बधाई

  4. siddha nath singh says:

    मार्मिक रचना, हिज्जे की गलती सुधार लें.शीप नहीं सीप कहना चाहते हैं न आप.

  5. Harish Chandra Lohumi says:

    अच्छी इच्छा जाहिर की है ! बधाई !!!

  6. tushar says:

    गौड़-गिरी! 🙂

  7. Peeyush says:

    Good one Abhishek Bhai.

Leave a Reply