« »

वो नेता, जादूगर

4 votes, average: 4.00 out of 54 votes, average: 4.00 out of 54 votes, average: 4.00 out of 54 votes, average: 4.00 out of 54 votes, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

वो नेता, जादूगर .
उसके हाथ की सफाई देखो.
देकर, लेकर…
हाथों की हालत देखो,
छिल गए है, कठोर…
जैसे कुम्हार के,
मगर बर्तन नहीं, धोखा बनाता है .
वो नेता, जादूगर .
सोचो… आवाज़ उठाओ,

– यशवर्धन गोस्वामी
३-२-११.

11 Comments

  1. Vishvnand says:

    बहुत खूब,
    अंदाज़ और रचना के लिए हार्दिक प्रशंसा…

    वो नेता जादूगर है,
    आवाज कैसे उठायें
    वो सब कुछ दबाता है,
    पैसा जमीन जायजाद और जुमला ,
    जनता की आवाज़ भी,
    खरीदे गुंडों द्वारा …

    • Yashwardhan Goswami says:

      @Vishvnand, सर, सादर धन्यवाद .
      और हाँ, आवाज़ उठेगी, हम ही उठाएँगे…

      • Vishvnand says:

        @Yashwardhan Goswami
        javaab padhkar bahut khushii huii. Vishwaas aa rahaa hai ki tumhaarii peedhii asalii deshbhakt hogii, deshdrohiyon aur aatankvaadion ke naak me dam kar degii, in sab ko uchit aur kadii sajaa degii. ahinsaa kaa sahii matlab samjhaayegii. Rishvatkhoron ko nahiin bakshegii, aur desh kee sahii tarah se unnati hogii…

  2. siddha nath singh says:

    सुन्दर मारक रचना,

  3. rajivsrivastava says:

    wah beta kya sateek war–aacha sandesh –badahai

  4. ashwini kumar goswami says:

    बहुर संक्षिप्त रूप में गूढ़ार्थ लिए हुए अच्छी रचना, अच्छा कटाक्ष ! ४-सितारे !

  5. Raj says:

    बहुत ही सुन्दर, यशवर्धन.

Leave a Reply