« »

जवाब आ गया माँ !

4 votes, average: 4.25 out of 54 votes, average: 4.25 out of 54 votes, average: 4.25 out of 54 votes, average: 4.25 out of 54 votes, average: 4.25 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

जवाब आ गया माँ …..!

——————————-

बेटी ! कोई जवाब आया क्या,
कितने दिन हो गए,
तुम्हारे पिताजी को,
शहर के उस अस्पताल में,
भर्ती हुए .

न जाने कैसा इलाज चल रहा है,
पूरे तीन महीने होने को हैं,
न जाने कैसी तबियत होगी,
न जाने कैसे रह रहा होगा,
तुम्हारा भाई,
अपने बीमार पिताजी के साथ,
तीमारदार बनकर .

हे भगवान !
कौन है हमारा इस दुनिया में,
तेरे सिवा,
तू ही कुछ चमत्कार कर,
कुछ तो कुशलक्षेम आये,
कोई तो जवाब आये .

जवाब आ गया माँ !
भैया, पिताजी को वापस घर लेकर आ रहे हैं,
हमें अब पिताजी की सेवा करनी है,
दिल से , जी जान से,
भगवान ने तो नहीं दिया माँ !,
पर जवाब दे दिया है,
सारे डाक्टरों ने,
सारे सर्जनों  ने .

***** हरीश चन्द्र लोहुमी

10 Comments

  1. rajiv srivastava says:

    doctor se log sawaal bahut karte hai,par jab wo jawab de deta hai to bahut bura hota hai,isliye kabhi doctor se jawab mat maango .bas sawaal kar ke bhool jao—ek chote se baat ko kitne dilchasp andaaz me likha hai aap ne—sunder rachna

    • Harish Chandra Lohumi says:

      @rajiv srivastava, हार्दिक आभार और धन्यवाद डाक्टर साहब !
      एक डाक्टर ही दूसरे डाक्टर के दिल की बात को अच्छी प्रकार से बता सकता है 🙂

  2. Vishvnand says:

    बहुत ह्रदयस्पर्शी सटीक रचना .
    पढ़कर दिल जवाब दे गया,
    कहने को कुछ न रहा न लिखने को
    सिर्फ सोचता रहा, जवाब मांगता रह गया
    Kudos

    • Harish Chandra Lohumi says:

      @Vishvnand, हार्दिक आभार और धन्यवाद सर ! ये रचना आपके द्वारा की गयीं कुछ पिछली प्रतिक्रियाओं का ही परिणाम है. मन प्रसन्न है आपकी इस लाज़वाब प्रतिक्रया से .

  3. siddha Nath Singh says:

    vaah,antim panktiyon ne loot lya mushayra bahi harish ji.

    • Harish Chandra Lohumi says:

      @siddha Nath Singh, इनायत का शुक्रिया एस एन साहब ! आप जैसे कदरदान हों तो या तो लूट कर ही जाना है या लुट कर ही… 🙂

  4. dp says:

    जियो सर जी वाहे…वाहे….

    • Harish Chandra Lohumi says:

      @dp, क्या बात है.. शुक्रिया बहुत बहुत डीपी साहब !

Leave a Reply