« »

देशगान : देशों में देश अनोखा प्यारा भारत एक है

3 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

देशगान : 

देशों   में    देश   अनोखा   प्यारा   भारत    एक    है 

कश्मीर  से  कन्या  कुमारी   सारा   भारत   एक   है 

दिल्ली है दिल भारत का सरकार  वहां से  चलती  है 
अमर जवान ज्योति देखो दिन -रात वहां पे जलती है 
नमन   करो   शहीदों    को   यह  काम  बड़ा  नेक  है 
देशों   में    देश   अनोखा   प्यारा   भारत    एक    है 
कश्मीर  से  कन्या  कुमारी   सारा   भारत   एक   है ……(1)


देश   के  उत्तर  में  हिमालय  जैसे  सिर  पे  ताज  है 
आगरा   के   ताज   पर   देश   को   अपने   नाज  है 
एक   अजूबा   दुनिया   का   प्यार   की  यह  टेक  है 
देशों   में    देश   अनोखा   प्यारा   भारत    एक    है 
कश्मीर  से  कन्या  कुमारी   सारा   भारत   एक   है …….(2)


हरियाणा -पंजाब    देखो   दूध -दही    की   खान   है 
रणबांकुरों  की  धरती  अपनी  प्यारा  राजस्थान  है
मध्य  प्रदेश  है   मध्य   में   जैसे   देश   का  पेट  है  
देशों   में    देश   अनोखा   प्यारा   भारत    एक    है 
कश्मीर  से  कन्या  कुमारी   सारा   भारत   एक   है ……..(3)


आनंद प्रकाश  बात   खास   महाराष्ट्र  की  प्यारी  है 
शिवाजी की यह धरती  यारो  क्रांति  की  चिंगारी  है 
बिगुल बजा दो आज  ही  नहीं  होना  हमको  लेट  है 
देशों   में    देश   अनोखा   प्यारा   भारत    एक    है 
कश्मीर  से  कन्या  कुमारी   सारा   भारत   एक   है ………(4)
-आनंद प्रकाश ‘आर्टिस्ट’ 
——————————————————————————

8 Comments

  1. ashwini kumar goswami says:

    बहुत सुन्दर राष्ट्र-भक्ति गान, जिसको देता हूँ ५ सितारों का सम्मान !

    • ANAND PRAKASH ARTIST says:

      @ashwini kumar goswami,
      धन्यवाद श्रीमान !आपने किया जो सम्मान ,बढ़ गया रचना का मान !मुझ पर आपका रहेगा यह एहसान ……..
      -आनंद प्रकाश ‘आर्टिस्ट’

  2. Vishvnand says:

    मनभावन सुन्दर देशभक्तिपर गीत.
    रचना के लिए हार्दिक बधाई I

  3. santosh bhauwala says:

    इतने प्यारे देश भक्ति के गीत को मेरा भी सलाम !!
    संतोष भाऊवाला

  4. parminder says:

    बहुत सुन्दर देश भक्ति गीत है! हम भाग्यवान हैं कि इस महान देश के वासी हैं!

    • ANAND PRAKASH ARTIST says:

      @parminder, जी, बिलकुल ठीक कहा है आपने ,पर भ्रष्टाचार इस सुन्दरता पर कलंक की तरह नहीं है क्या ? आप मेरा व्यंग्य गीत जय -जय -जय भ्रष्टाचार भी देखें ….प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद !
      -आनंद प्रकाश ‘आर्टिस्ट’

Leave a Reply