« »

बरसात का आलम

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Sep 2011 Contest

कृपया पढ़ने के लिए चित्र पर क्लिक करें। चित्र के पूरा आने पर उसे ज़ूम करने के लिए एक बार और क्लिक करें।

4 Comments

  1. Vishvnand says:

    बहुत अच्छे
    हार्दिक बधाई
    इक कहावत याद आई
    बाप तो बाप, बाप से बेटा सवाई

  2. kalawati says:

    कविता तो सुन्दर है ही, अंदाज उससे भी सुन्दर है.

    • Sushil Joshi says:

      @kalawati, हार्दिक धन्यवाद कलावती जी….. कार्य की कुछ व्यस्तता के कारण प्रत्युत्तर में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ..

Leave a Reply