« »

रात(couplet)

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

रात जब मद्धम मद्धम गुजरती है महबूब की बाहों में ,
सुबह की किरणों में भी इश्क का रंग चढ़ के आता है मेरे चेहरे तक …..!!!!

One Comment

  1. siddha nath singh says:

    भावनाओं की उद्दाम अभिव्यक्ति.

Leave a Reply