« »

कविता

3 votes, average: 4.67 out of 53 votes, average: 4.67 out of 53 votes, average: 4.67 out of 53 votes, average: 4.67 out of 53 votes, average: 4.67 out of 5
Loading...
Anthology 2013 Entries, Uncategorized

तू कहाँ से आयी ,कैसे आयी ?
शायद आकाश के कोई टूटते तारे से
या नदी में फैलती एक तरंग से
सूरज की एक कोमल किरण से
या सर्द ज़िंदगी में ताप देने ,एक चिंगारी से
जो भी हो
एक अचूक तीर बनकर तूने मुझे निशाना बनाया
फूट पड़ी एक धार ,एक प्रवाह
एक गूड शक्ति
मेरे मोतियाबिंद का विनाश करके
मुझे स्वर्गलोक के अलौकिक दृश्य दिखाती हुई
मेरी रूह में चरखा कात कर
झिलमिलाते तारों और सृष्टि की चादर बुनती हुई
और बना दिया मुझे इस ब्रह्माण्ड का एक पवित्र अंग
प्रेम के चक्र में परिक्रमा करता हुआ एक स्वछंद प्राणी

6 Comments

  1. sushil sarna says:

    Renu jee after a long time u have posted a poem which is full of emotions,flow – a feel which is snow, heat, life beyond the universe, every thing u explained lovely words-hmaaree mubarak kabool krain- badhaaee is pyaree see rachna ke liye aapko

  2. Vikash says:

    You posted after 5 months. 🙂 Welcome back.

  3. SS Kumar says:

    The subject, choice of words, placement & rythem..amazing! God Bless. Keep writing.

  4. Vishvnand says:

    Kavitaa mein kavitaa par ubhari gahan adbhut utkrasht anubhuti kii abhivyakti
    kitanii man bhaavan aur prashansneey hai ye rachanaa shabdo me samjhaanaa bahut kathin
    rachanaa ke liye aapko dhanyvaad aur vandan aur ashaa ki p4poetry par aapkaa ab aage hardam rahe suaagaman…..

  5. parminder says:

    Very beautiful! रूह का चरखा ही तो हैं यह शब्द जो कविता बन सामने आ जाते हैं!

  6. santosh bhauwala says:

    bhaav bhini prastuti ,rooh se nikali sidhe rooh me samaa gai ! badhaai

Leave a Reply