« »

” मैं तेरे ही पास हूँ…”

4 votes, average: 4.25 out of 54 votes, average: 4.25 out of 54 votes, average: 4.25 out of 54 votes, average: 4.25 out of 54 votes, average: 4.25 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

इश्क का दरिया हूँ मैं, मैं सागर की प्यास हूँ…
बरसों से लापता है जो, वो तेरी तलाश हूँ…

अंधेरों को रोशन कर दे, वो जीने कि आस हूँ…
मोत को ज़िन्दगी कर दे, मैं तेरी वो सांस हूँ…

दिल कि तेरे धड़कन हूँ मैं, सुकून का एहसास हूँ…
दफन है दिल मे जो तेरे, वो तूफानी राज़ हूँ…

तड़पता है मेरे लिये, सिर्फ इसीलिये उदास हूँ…
बंद आँखों से देख ज़रा, मैं तेरे ही पास हूँ…

8 Comments

  1. Vishvnand says:

    Bahut achche aur badhiyaa
    Likhane kaa andaaz bahut man bhaayaa

    Aise apane prayaas se aap achche darje kii kaviyatrii banane ke paas hain
    ye maanane koii bhii dikkat nahiin mahsoos karataa huun…..

    Hardik badhaaii….

    • Komal says:

      Bohot achha laga mujhe ki aapne meri kavita ko padha aur is tareef k kabil samjha…
      Aapka bohot bohot shukriya…

  2. Prem Kumar Shriwastav says:

    सुन्दर … बधाई.

  3. shakeel says:

    बहुत खुबसूरत अंदाज़ है आपके लिखने का

  4. बहुत ही सुंदर है|
    आपकी तीनो कविताओं में सबसे सुंदर…
    🙂

Leave a Reply