« »

उपहास न उड़ायें हिंदी का

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

=============== उपहास न उड़ायें हिंदी का =================

ऐसी भाषा ही हिंदी को क्लिष्ट बनाती है
-जो न बोलनेवाले और ना ही सुननेवाले को समझ में आती है
ऐसे शब्दों का प्रयोग बाधक है ,हिंदी को आगे बढाने में
झूठे हिंदी शुभचिंतकों का योग है इंग्लिश को चढाने में
‘श्वेत दंड धूम्र नलिका’ की बजाय सीधा कहें सिगरेट
तो असरकारी ज्यादा रहेगा
हिंदी उपहास न बन रह जाये,ठान लो
तो प्रचार प्रसार में हर कोई आगे बढेगा
‘लोह पथ गामिनी धूम्र वाहिनी ”
इतना लम्बा बोलोगे तो गाडी छूट जाएगी
रेल कह दिया तो ,हर किसी के समझ में आयेगी
‘कंठ लंगोट’कहकर टाई से गला दबाने मत मच लो
‘द्वि चक्र वाहिनी ‘कह साइकिल से हिंदी मत कुचलो
हिंदी आम लोगों की भाषा है इसे सबकी भाषा बने रहने दो
प्रचलित शब्दों को जैसा समझ आये वैसा कहने दो
============================================

3 Comments

  1. s n singh says:

    anuvad se bhasha udbhoot nahin hoti,vah to bolne se hoti hai. aisi kattarvadita har kshetra me kasht hi deti hai! bilkul durust hai aap ka vichar.

  2. Vishvnand says:

    Sundar rachanaa aur sahii hai jo aapkaa hai sujhaanaa
    har achchii bhaashaa ke liye upyukt hai apane me any bhaashaaaon ke prachalit shabd ko samaa lenaa

    aur ab jaroorii hai Kuch aisaa mahaul banaanaa
    ki har bhaaratvaasii ko Hindi seekhanaa aur bolanaa ho deshprem se judanaa
    aur har sarkaarii kaam kaaj me hindi bhaashaa kaa upyog aavashyak honaa
    yah hii to sarkaar kii jimmedaarii hai jo use hai nibhaanaa …..!

  3. Suresh Rai says:

    angreji premika rahe
    hindi se sambandh shadi sa
    tan par pehno coat suit tie
    man ho shudh khadi sa
    suresh

Leave a Reply