« »

हैं जिनकी वजह से ये हालात देखो

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

हैं जिनकी वजह से ये हालात देखो
वही कर रहे हैं सवालात देखो

सियासत है- ज़ाती मफ़ादात देखो
न भूले से गैरों के जज़्बात देखो zaatee mafadaat-niji hit

बिठाओ गणित बैठ कर जातियों की
जिताऊ हराऊ हिसाबात देखो

न अपना किया दे नतीजा यहाँ पे
नजूमी पधारो ज़रा हाथ देखो najoomi-bhavishvaqta

सब आये हैं वोटों की खातिर मनाने
महादेव की आई बारात देखो

दियानत कहाँ, कैसी ईमानदारी
यहाँ अब न इनके निशानात देखो diyaanat-achchhi neeyat

हुई खिदमते ख़ल्क़ अब उनका पेशा
अदब से झुको, अब रसूखात देखो khidmate khalq-jan seva,rasookhat-prabhavpoorn sambandh

Leave a Reply