« »

मेरी पलकों को……***

1 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

मेरी पलकों को……

मेरी पलकों को अपने ख़्वाबों की वजह दे दो
अपनी साँसों में मेरे जज़्बातों को जगह दे दो

जिसकी नमी तुम दामन में .सजाये बैठी हो
उसके रूठे सवालों को जवाबों में जगह दे दो

बंद हुआ चाहती हैं ..अब थकी हुई पलकें मेरी
अपनी तन्हाई में रूहानी रातों को जगह दे दो

ये ज़िंदगी तो गुज़र जाएगी तेरे हिज्र के सहारे
इन हाथों में कुछ रूठे हुए वादों को जगह दे दो

कल का वादा न करो कि अब न कल आएगा
अपने रुख़्सार पे पिघले लम्हों को जगह दे दो

सुशील सरना

Leave a Reply