« »

काश

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

ऐ काश  के ऐसा हो पाता
वो बचपन
नन्हे क़दमों से
फिर दौड़ा चला आता

ना दुनिया की फ़िक्र
ना ज़माने का डर
अपनी मनमौजों से भरा
वो सुहाना बचपन का सफ़र

वो परियों की कहानियाँ
वो दादी की थपकियाँ
माँ  का लोरियाँ गाना
और यहाँ लेना मेरा झपकियाँ

ना ज़िन्दगी की दौड़ की खबर
ना हर छोटी बड़ी बात की चिंता
हस्ते खेलते गुड़ियों खिलौनों में
था हम सबका बचपन गुज़रता

अब चाहकर भी
लौटना है नामुमकिन
कितने सुकून भरे थे वो
बचपन के प्यारे प्यारे दिन ….

7 Comments

  1. Reetesh Sabr says:

    bahut sundar…ek observation mera, ki kaash shabd hum unn cheezon ke liye toh kehte hee hain jo ho nahi paaeen ya hum kar paate…par jo ham kar chuke hain ya jee chuke hain..jo hamara past hai, maazi hai…usko phir se paane ki chaah…KAASH!

  2. kusum says:

    Sweet nostalgia.
    Beete din yaad dilate hain.
    Bachpan ke din bhi kya din the…hai, hai…..!!!!!
    Kusum

  3. Vishvnand says:

    Ek andar base Ahsaas ki bahut sundar abhivyakti
    Manbhaavan badhiyaa rachanaa ke liye hardik badhaaii ….!

  4. SN says:

    achchhi lagi.Nostalgia ka varnana marmik hai.

Leave a Reply